Featured Post,  Podcast,  Poems

Wonderful Poem Recitation by DAV Student on World Earth Day

Why is Mother Earth worried?

Oh dear Earth, the divine blissful Mother,
Why are you sad & worried?, just tell us…

We are so glad & auspicious too,
By the blessings We redeem every bit from you…

You are strong & kind enough though,
Then why are you worried & bend like a bow?

The Earth then replied with lots of pain,
“I’m worried to See the doom on my plain.”

My heart is crying with pollution on my crust,
I feel awful by bearing this much dirt…

No one is working for the best of coming rest,
I’m worried a lot to See my dirty nest..

Written by Raman & Recite by Gurleen Kaur, student of DAV public School….

Doom = destruction
Crust = upper layer
Awful = very bad
Auspicious = very lucky
Blissful = with joy and divine powers

Enjoy Reading sone more poems like A Day Off.

Disclaimer:- इस वेबसाइट अथवा पत्रिका का उद्देश्य मनोरंजन के माध्यम से महिलाओं एवं लेखकों द्वारा लिखी रचनाओं को प्रोत्साहित करना है। यहाँ प्रस्तुत सभी रचनाएँ काल्पनिक हैं तथा किसी भी रचना का किसी भी व्यक्ति से कोई सम्बन्ध नहीं है। यदि कोई रचना किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व, स्वभाव, उसकी स्थिति या उसके मन के भाव से मेल खाती हो तो उसे सिर्फ एक सयोंग ही समझा जाए। इसके अतिरिक्त प्रत्येक पोस्ट में व्यक्त गए लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं, यह जरूरी नहीं की वे विचार pearlsofwords.com या E-Magazine हर स्त्री एक “प्रेरणा” की सोच अथवा विचारों को प्रतिबिंबित करते हों। किसिस भी त्रुटि अथवा चूक के लिए लेखक स्वयं जिम्मेदार है pearlsofwords.com या E-Magazine हर स्त्री एक “प्रेरणा”की इसमें कोई ज़िम्मेदारी नहीं है। 

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *