Expertise

How to Increase Oxygen level of A Corona Positive at Home

COVID-19 के संबंध में महत्वपूर्ण सूचना:-

मौसम में बदलाव कोरोना वायरस के संक्रमण में सहायक है और यही कारण है कि सब कुछ ठीक ठाक चलते चलते अचानक ही कोरोना वायरस का प्रकोप फिर बहुत फैल गया है। पर हम में से अधिकांश लोग लॉकडाउन के दूसरे चरण को अपनाने के लिए शायद तैयार नहीं हैं जिसका सबसे बड़ा कारण आर्थिक नुकसान का प्रकोप है। 

चाहे जो भी हो एक बड़ा सच यह है कि कोरोना महामारी को बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। आज समाज में स्वास्थ्य प्रणाली के उतार चढ़ाव को देखते हुए, स्वास्थ्य पेशेवरों ने लोगों के लिए यह संदेश तैयार किया हैं। 

यदि आप कोरोना से संक्रमित हो गए हैं पर तुरंत अस्पताल जाने का जोखिम नहीं उठाना चाहते हैं तो, इन दिशा निर्देशों को ध्यान से पढ़िए। सबसे पहले आपको यह पता करना है कि आपको कोविड-19 का खतरा हो गया है या नहीं?

  • गले में खुजली
  • सूखा गला
  • सूखी खांसी
  • उच्च तापमान
  • Aसांस लेने में कठिनाई
  • गंध और स्वाद की हानि

तो आइये जाने कि कैसे करें खुद की देखभाल… 

मान लीजिए कि कोई व्यक्ति कोरोना संक्रमित हो जाता है तो उसे संक्रमण के तीसरे दिन से लक्षण दिखाई देने लगेंगे। आप इन लक्षणों को करीब 12-14 दिनों में तीन चरणों में अपना रूप बदलते हुए देखेंगे। 

पहला चरण:-

  • शरीर का दर्द
  • आँखों में दर्द/ आँखें जलना
  • सिरदर्द
  • उल्टी/दस्त
  • बहती नाक या नाक भर जाना
  • पेशाब करते समय जलन
  • बुखार महसूस होना
  • गले में खराश

लक्षणों के दिनों को गिनना बहुत महत्वपूर्ण है: पहला, दूसरा, तीसरा दिन बुखार की शुरुआत से ही सावधान हो जाएं और इलाज की कार्रवाई शुरू कर दें।

बहुत सारे तरल पदार्थ पीना बहुत महत्वपूर्ण है, विशेष रूप से शुद्ध पानी।

अपने गले को नम रखने के लिए और अपने फेफड़ों को साफ करने में मदद करने के लिए खूब गुनगुना पानी पिएं।

दूसरा चरण:-

चौथे से आठवें दिन तक इंफ्लेमेटरी पीरियड महसूस होगा जिसमें वायरस तंत्रिका तंत्र (Nervous System) पर हमला करता है:- जिसके कारण संक्रमित व्यक्ति स्वादहीन या गंधहीन महसूस करेगा।

  • न्यूनतम प्रयास से ही थकान महसूस करना।
  • सीने में दर्द (रिब, पिंजरे या पसलियों में)
  • छाती का कसना (पीठ के निचले हिस्से में दर्द- गुर्दे के क्षेत्र में) जैसे लक्षण शामिल हैं। 

थकान और सांस की तकलीफ के बीच का अंतर भी समझना होगा:-

  • सांस की तकलीफ:- जब आराम से बैठा हुआ व्यक्ति आचानक हवा का अभाव महसूस करने लगे, बिना कुछ किए ही हाफ़ने लगे तो इसे सांस की तकलीफ़ कहेंगे। 
  • थकान:- जब व्यक्ति कुछ काम करने के लिए गतिशील रहता है तब वह थकान महसूस करने लगता है।

ऐसे में बहुत अधिक पानी अथवा तरल और विटामिन सी की आवश्यकता होती है।

कोविड -19 ऑक्सीजन को बांधता है, इसलिए कम ऑक्सीजन के साथ, रक्त की गुणवत्ता खराब हो जाती है।

शरीर में Oxygen का स्तर 95-100 तक होना चाहिए, पर कोरोना वायरस की वजह से ये स्तर नीचे जाने लगता है। जैसा कि हम जानते ही हैं कि हमारा शरीर Oxygen से ही ऊर्जा प्राप्त करता है और हमारे सभी अंग इसी से स्वस्थ रहते हैं। Oxygen level नीचे (90-85-80) जाने से साँस लेने में तकलीफ होने लगती है जिसके असर से हृदय, फेफड़े जैसे सभी आंतरिक अंगों को नुकसान हो सकता है। 

Covid-19 के प्रकोप से Oxygen level नीचे जाने के कारण ही संक्रमित व्यक्ति को हॉस्पिटल ले जाना पड़ता है। जहाँ उसे ventilator की सहायता से Oxygen level संतुलित करने का प्रयास किया जाता है। 

Oxygen level संतुलित रखने के घरेलू उपाय:

एक साफ़ सूती कपड़े (रुमाल) में एक कपूर के टुकड़े के साथ एक छोटा चम्मच अजवाइन मिला कर पोटली बना लीजिए और दिन में हर 2 घंटे में 10-15 बार गहरी साँस लेते हुए सूँघे। Oxygen level को 95-100 तक लाने का सबसे कारगर, चमत्कारी घरेलू नुस्खा है। 

तीसरा चरण

यह चरण 9वें दिन से शुरू हो जाता है। इसे हम उपचार या हीलिंग चरण भी कह सकते हैं। यह करीब 14वें दिन तक रहता है। उपचार में देरी न करें, जितनी जल्दी हो घर पर ही सुचारू रूप से शुरू कर दीजिए। 

कुछ आसान से प्रयोग अपनाइये

  • 15-20 मिनट के लिए धूप में बैठें।
  • आराम करें और कम से कम 7-8 घंटे की नींद लें।
  • प्रतिदिन डेढ़ लीटर पानी पिएं। 
  • भोजन सदैव गर्म खाना (ठंडा नहीं)। 

ध्यान रखें कि कोरोना वायरस का Ph लेवल 5.5 से 8.5 तक होता है। तो हम सभी को वायरस को खत्म करने के लिए और अधिक क्षारीय (alkaline) खाद्य पदार्थ नहीं होने चाहिए। 

 वायरस के एसिड स्तर से ऊपर की कुछ चीजें निम्नलिखित है जिन्हें कोरोना वायरस के प्रभाव को उदासीन करने में सहायक हो सकते हैं, जैसा कि:

  • केले, चूना    9.9 pH
  • पीला नींबू    8.2 pH
  • एवोकैडो    15.6 pH
  • लहसुन      13.2 pH
  • आम           8.7 pH
  • मंदारिन        8.5 pH
  • अनानास    12.7 pH
  • वॉटरक्रॉस     2.7 pH
  • संतरे           9.2 pH

ध्यान देने योग्य बात है कि आप जो गर्म पानी पीते हैं वह आपके गले के लिए अच्छा है।

लेकिन यह कोरोना वायरस आपकी नाक के पैरानासल साइनस के पीछे 3 से 4 दिनों तक छिपा रहता है।

हम जो गर्म पानी पीते हैं, वह वहां नहीं पहुंचता।

4 से 5 दिनों के बाद यह वायरस जो पैरानासल साइनस के पीछे छिपा हुआ था, आपके फेफड़ों तक पहुँचता है।  फिर आपको सांस लेने में परेशानी होती है। इसीलिए स्टीम लेना बहुत ज़रूरी है, जो आपके पैरानासनल साइनस के पीछे पहुँचता है।

स्टीम वीक

डॉक्टरों के अनुसार, कोविड -19 को कोरोना वायरस को खत्म करने, नाक और मुंह से भाप निकालने से मारा जा सकता है। यदि सभी लोगों ने एक सप्ताह के लिए स्टीम ड्राइव (गर्म पानी से भाप) अभियान शुरू किया, तो यह महामारी जल्द ही समाप्त हो सकती है। आपको इस वायरस को भाप या स्टीम से नाक के अंदर ही मारना है।

  • 50°C पर, यह वायरस निष्क्रिय हो जाता है यानी लकवाग्रस्त हो जाता है।
  • 60℃ पर यह वायरस इतना कमजोर हो जाता है कि कोई भी मानव प्रतिरक्षा प्रणाली इसके खिलाफ लड़ सकता है।
  • 70°C पर यह वायरस पूरी तरह से मर जाता है।
  • यह सब आप स्टीम या भाप के माध्यम से कर सकते हैं।
  • जो घर पर रहता है उसे दिन में एक बार भाप लेनी चाहिए।  
  • यदि आप सब्जियां खरीदने के लिए बाजार जाते हैं, तो इसे दिन में दो बार लें।
  • जो लोग अन्य लोगों से मिलता है या कार्यालय जाते हैं उन्हें दिन में कम से कम 3 बार भाप लेनी चाहिए।

तो यहाँ एक सुझाव है:

एक सप्ताह के लिए सुबह और शाम को प्रक्रिया शुरू करें, हर बार सिर्फ 5 मिनट के लिए भाप ले, इस अभ्यास का कोई दुष्प्रभाव भी नहीं है। यदि सभी एक सप्ताह के लिए इस अभ्यास को अपनाते हैं तो यह घातक कोविड-19 जड़ से मिट जाएगा और फिर हम सभी इस कोरोना वायरस को एक साथ मार सकें और इस खूबसूरत दुनिया में खुलकर जी सकें।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया है तो Corona virus पर यह पोस्ट (जब तक है जान part-1) और (जब तक है जान part-2) भी जरूर पसंद आयेगा।

इस संदेश को अपने सभी प्रियजनों को फॉरवर्ड ज़रूर करें। मेरी कामना है कि आप सभी सहपरिवार स्वस्थ रहें और मस्त रहें। 

सभी को शुभकामनाएं!

धन्यवाद

I’m participating in #BlogchatterA2Z campaign, powered by Blogchatter.

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.