Fiction

We have a best collection of Fiction or short stories with purpose and feel with related media . To develop motivation, enhance values and spiritual wisdom.

  • Featured Post,  Fiction

    An Interesting Article On Woman from Vedic Period to Technical Era By Dr. Meera Mishra

    मीरा मिश्रा, सेवा निवृत्त प्रोफेसर, बराबू, मुजफ्फरपुर. ‘वैदिक ऋषिका से आधुनिका तक’-पथ महान या पथिक ? महिला, अर्थात महान, के कृतित्व की पूर्वकथा स्मरणीय है-पूर्व-वैदिक, वैदिक काल में उनका पारिवारिक, वैचारिक, धार्मिक व्यक्तित्व…

  • Featured Post,  Fiction

    A Best Hindi Short Story by Damini Singh Thakur

    दामिनी सिंह ठाकुर इंदौर, मध्य प्रदेश कम शब्दों में बहुत बड़ा मैसेज है यह कहानी। नारीवाद के इस अभियान में इस तरह की कहानियों की बहुत ज्यादा आवश्यकता है। रोजमर्रा की जिंदगी से…

  • Featured Post,  Fiction

    Wonderful Hindi Article on Existence of Women after 75 years of Indian Independence & by Maya Saini

    आजादी, महज एक शब्द बनकर रह गया है, आज विदेशी लोगो की आजादी का 75 वा साल है, हम 75 सालों में कितने बदले है? आइये हम आपको हमारे समाज और देश का…

  • Blog,  Featured Post,  Fiction

    Micro Tale by A Best Indian Hindi writer Seema Garg Manjari

    सीमा गर्ग मंजरी मेरठ कैंट, उत्तर प्रदेश लघुकथा – “असहाय” “चम्पा! ओ चम्पा !! मै मन्दिर दीप जलाकर आती हूँ तब तक तू खाने की तैयारी कर। “चम्पा को आवाज देकर उसकी सासुमाँ…

  • Contests, Challenges & Activities,  Fiction

    Online Weekly Writing Challenge

    साप्ताहिक लेखन प्रतियोगिता में इस बार हम बात कर रहे हैं परवरिश की एक बालक के जन्म मात्र से ही उसका जीवन निर्धारित नहीं होता अपितु उसके पालन-पोषण पर उसका पूरा व्यक्तित्व आधारित…

  • Blog,  Featured Post,  Fiction

    A Best Hindi Story by Sunita Mishra

    ई-पत्रिका हर स्त्री एक “प्रेरणा” द्वारा संचालित Facebook Group, Writer’s Club में साप्ताहिक काव्य / कहानी लेखन प्रतियोगिता मिति 7/06 /2021 से 12 /06 /2021 में भोपाल मध्य प्रदेश की श्रीमती सुनीता मिश्रा…

  • Featured Post,  Fiction,  Podcast

    How our Society actually deals with Feminism

    नारित्व क्या केवल एक नैरा मात्र है। इतिहास के बहुत पुराने पन्नों की तरफ नजर ना भी डालें और बस अपने ही जीवन काल में चारों दिशाओं पर देखे तो हम बहुत सी…